विभिन्न प्रकोष्ठ के ज़रिये AAP की जन-जन तक जाने की तैयारी

2019 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर समाज के अलग-अलग तबकों में अपनी पैठ बढ़ाने के लिए आम आदमी पार्टी अपने संगठन को रीस्ट्रक्चरिंग के द्वारा और अधिक मज़बूत बना रही है। निचले स्तर तक संगठन को मजबूत करने में जुटी आम आदमी पार्टी ने बुधवार को वाल्मीकि जयंती के अवसर पर दिल्ली के लिए एसएसी-एसटी और अल्पसंख्यक मोर्चे की घोषणा की।

दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने संगठन की रीस्ट्रक्चरिंग की कड़ी में इन दो और नए मोर्चों के गठन का ऐलान किया। एससी-एसटी मोर्चे के गठन का बुधवार को ऐलान करते हुए उन्होंने कहा कि ये दोनों ऐसे समाज हैं, जिन्होंने शुरू से ही पार्टी को भरपूर समर्थन दिया है। अनुसूचित जाति और जनजाति प्रकोष्ठ में करम सिंह कर्मा को अध्यक्ष, इंद्र मोहन को संगठन मंत्री, बबीता और राम सिंह गौतम को उपाध्यक्ष, राजेंद्र जाटव को सचिव और रूपेश महरा और पूजा बिड़लान को सह-सचिव बनाया गया है।

अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ में हाजी मोहम्मद यूनुस को अध्यक्ष, मोहम्मद शादाब को संगठन मंत्री, एफआई इस्माइली और मोहम्मद उस्मान को उपाध्यक्ष, वरुण राज सिंह को सचिव और अतीक अहमद और अफजल कादरी को सह-सचिव बनाया गया है।

इससे पहले सोमवार को दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने पूर्वांचल प्रकोष्ठ, उत्तराखंड प्रकोष्ठ और साउथ इंडियन प्रकोष्ठ की घोषणा करते हुए इन तीनों प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों के नामों की घोषणा की। पूर्वांचल विंग में संजय कुमार भगत को अध्यक्ष, अमरनाथ यादव को संगठन मंत्री, सुभाष मिश्रा, दीपक झा और ज्योति माला को उपाध्यक्ष, संतोष श्रीवास्तव को सचिव, सौरभ को सह-सचिव और प्रवीण झा को कोषाध्यक्ष बनाया गया है।

गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली में बड़ी तादाद में पूर्वांचल के लोग रहते हैं। ऐसे में पार्टी की पूर्वांचल विंग दिल्ली में रहने वाले पूर्वांचल के हर आदमी से संपर्क करेगी और समस्याओं के समाधान की कोशिश करेगी। उन्होंने यह भी कहा कि जल्द ही आने वाले छठ पर्व पर पार्टी की पूर्वांचल विंग दिल्ली सरकार और पूर्वांचलियों के बीच मध्यस्थ का काम करके यह सुनिश्चित करेगी कि छठ पूजा के अवसर पर दिल्ली सरकार की तरफ से पूर्वांचलवासियों को सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं।

पार्टी ने उत्तराखंड मोर्चे के पदाधिकारियों की भी घोषणा की। इस मोर्चे में बृज मोहन उप्रेती को अध्यक्ष बनाया गया है, जो इससे पहले कांग्रेस के पर्वतीय प्रकोष्ठ के अध्यक्ष रह चुके हैं और कुछ दिन पहले ही उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा देकर आप का दामन थामा था। उनके अलावा, दीवान सिंह नियाल को संगठन मंत्री, जे. एन. जोशी को उपाध्यक्ष, भारत बिष्ट को सचिव, नीलम रानी को सह-सचिव और पंकज को कोषाध्यक्ष बनाया गया है। गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली एक मिनी भारत है और यहां देश के सभी प्रांतों के लोग रहते हैं। उसी को मद्देनज़र रखते हुए दिल्ली सरकार ने बीते दिनों कई प्रकार के प्रकोष्ठ बनाए थे और उसी कड़ी में अब पार्टी ने भी उत्तराखंड विंग की स्थापना की है। यह प्रकोष्ठ उत्तरांचलियों की संस्कृति को दिल्ली में जीवित करने का काम करेगा।

इसके अलावा पार्टी ने एक साउथ इंडियन प्रकोष्ठ की भी घोषणा की है, जिसमें आर. के. पुनप्पम को अध्यक्ष, के. एस. टी. शेट्टी को संगठन मंत्री, राजेंद्र को उपाध्यक्ष, वी. थॉमस को उपाध्यक्ष, रमेश प्रभु को सचिव, सरस्वती राजन, डी. अर्जुन और बेनी मैथ्यू को सह-सचिव और रॉय थॉमस को कोषाध्यक्ष बनाया गया है।

गोपाल राय ने बताया किस भी विंग में एक राज्य स्तर की टीम होगी और उसके नीचे जिला स्तर, लोकसभा स्तर, विधानसभा, वॉर्ड, पोलिंग और बूथ स्तर की टीमें बनाई जाएंगी। ये सभी प्रकोष्ठ दिल्ली में रहने वाले अलग-अलग प्रांतों के लोगों के बीच सामंजस्य स्थापित करने का काम करेंगे।

Source: नवभारत टाइम्स

Leave a Reply